Sample 4 - ||| Anuvaad Communication, Vaishali, Ghaziabad |||

Search
Go to content

Main menu:

Sample 4

Translation Sample
Text in English
Dreams are to be seen in sleep. Dreams are to be fulfilled when you are not in sleep. So, wake up, work your best with in your abilities to achieve all for yourself without listening to fake promises of these politicians because they are best for their work. That is, giving you dreams in best of sunshine.

Two words for the 17-18 Budget: Future Indefinite

This dengue mosquito is flying in switzerland and you are wielding the stick here.  

Is this real? People who bore demonetisation without a whimper are rallying for Jallikattu? Where are the priorities? We seem to respond much more on cultural issues than on governance issues. All it takes is one emotional issue? Politicians know this. We the people are the herds..

The fear with Modi is not about ordinary corruption, but about totalitarian control!

It is only 3rd Jan but we probably already have the best joke of 2017. Rajnath Singh said that BJP doesn't indulge in polarization politics.
The list of questions:
  1. Union Minister Piyush Goyal has said on the floor of the House that the decision to demonetise was taken by the RBI and its Board. The government merely acted upon this advice. Do you concur?
  2. If the decision was indeed RBI’s, then when exactly did the RBI decide that it was in India’s best interests to demonetise currency?
  3. What was the exact rationale laid out by the RBI for this decision to invalidate Rs 500 and Rs 1,000 notes overnight?
  4. RBI’s own estimates show fake/ counterfeit currency to be a mere Rs 500 crore. India’s cash to GDP was 12%, lower than Japan (18%) and Switzerland (13%). High denomination notes as a share of currency was 86% in India, but 90% in China and 81% in US. So, what was so alarming that the RBI decided India needed to demonetise suddenly?
  5. When was the notice sent to the RBI Board members calling for an emergency meeting on November 8? Which of them attended this meeting? How long the meeting did last? And where are the minutes of this meeting?
  6. In the subsequent note sent to the Cabinet recommending demonetisation, did the RBI explicitly mention that this decision would mean invalidating 86 per cent of the country’s currency and its attendant cost? How long did the RBI say it would take to remonetise?
  7. The RBI notification of November 8, 2016 under Section 3 c(v) issued a restriction on withdrawal from a bank account over the counter to Rs 10,000 per day and Rs 20,000 per week. There was a similar limit of Rs 2,000 per day in an ATM. Under what law and powers of the RBI, were these limitations imposed on people to withdraw their own cash? What gave the powers to the RBI to ration currency notes in the country? If there are no laws that you can cite, why should you not be prosecuted and removed for abuse of power of office?
  8. Why have there been so many flip-flops in RBI regulations over the past two months? Please give us the name of the RBI officer who came up with the idea to ink people for withdrawal? Who drafted the notification on marriage related withdrawal? If it was not the RBI that drafted these but the government, is the RBI now a department of Ministry of Finance?
  9. How much exactly was demonetised and how much has been deposited back in old currency? What was the expectation of notes to be extinguished when the RBI advised the government to demonetise on November 8?
  10. Why has the RBI refused to reveal information under the RTI, citing inane reasons such as fear of personal injury? Why is the RBI not providing information under RTI to queries that come?
Translated Text in Hindi
सपने नीन्द में देखे जाते हैं। और तब पूरे किए जाते हैं जब आप नीन्द में ना हों। इसलिए, जागिए, अपनी सर्वश्रेष्ठ योग्यता और क्षमता के अनुसार काम कीजिए और अपने लिए सब कुछ हासिल कीजिए इन राजनेताओं के फर्जी वादों को सुने बिना क्योंकि वे अपने काम के लिए सर्वश्रेष्ठ हैं। वह है, आपको सपने दिखाना, दिन के उजाले में तेज धूप में।   

17-18 के बजट के लिए दो शब्द : भविष्य अनिश्चित (अस्पष्ट)।

डेंगू मच्छर स्विस बैंक में है और आप मच्छर मारने के लिए भारत में लाठी भांज रहे हैं।

"क्या यह असली है? जिन लोगों ने नोटबंदी को बगैर किसी विरोध के झेला वे जलीकट्टू के लिए लड़ रहे हैं। प्राथमिकताएं कहाँ हैं? हम शासन के मुद्दों पर कम और सांस्कृतिक मुद्दों पर बहुत अधिक प्रतिक्रिया देते हैं। क्या यह सब एक भावुक मुद्दे से हो जाता है? राजनेता इसे जानते हैं। हम भेड़ की तरह व्यवहार करते हैं।"

नरेन्द्र मोदी से सामान्य भ्रष्टाचार का नहीं, पूरे एकाधिकार और नियंत्रण का डर है।

अभी तो तीन जनवरी ही है। लेकिन लगता है हमें 2017 का सर्वश्रेष्ठ चुटकुला मिल गया है। राजनाथ सिंह ने कहा है कि भाजपा ध्रुवीकरण की राजनीति नहीं करती है।

सवालों की सूची :
  1. केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने संसद में कहा है कि नोटबंदी का फैसला आरबीआई और इसके बोर्ड ने लिया था। सरकार ने सिर्फ सलाह पर कार्रवाई की। क्‍या आप पुष्टि करते हैं?
  2. अगर फैसला वाकई आरबीआई का था, तो आरबीआई ने ठीक-ठीक कब तय किया कि नोटबंदी भारत के सर्वश्रेष्ठ हित में है?
  3. रातों-रात 500 और 1,000 रुपए के नोट बंद करने के पीछे आरबीआई ने ठीक-ठीक क्या तर्क रखे थे?
  4. आरबीआई के अपने अनुमान बताते हैं कि भारत में नकली/जाली करंसी महज सिर्फ 500 करोड़ रुपए की है। भारत में जीडीपी के मुकाबले नकद 12 फीसदी था जो कि जापान (18%) और स्विट्जरलैंड (13%) से कम है। भारत में ज्यादा मूल्य वाले नोटों में मौजूद नकदी में 86% थी, जबकि चीन में यह 90% और अमेरिका में 81% है। ऐसे में, क्या चीज ऐसी चिन्ताजनक थी जिसकी वजह से भारत ने अचानक नोटबंदी का फैसला करने की आवश्यकता आन पड़ी?
  5. 8 नवंबर को आपात बैठक के लिए आरबीआई बोर्ड के सदस्‍यों को नोटिस कब भेजा गया था? उनमें से कौन-कौन इस बैठक में आए? कितनी देर यह बैठक चली? और बैठक के मिनिट्स कहां है?
  6. बैठक के बाद नोटबंदी की सिफारिश करते हुए कैबिनेट को भेजे गए नोट में, क्‍या आरबीआई ने स्पष्ट लिखा था कि इस फैसले का मतलब देश की 86 प्रतिशत नकदी को अवैध कर देना होगा और इसपर क्या खर्च आएगा? आरबीआई इतनी नकदी कब तक लाने की बात कही थी?
  7. आरबीआई की 8 नवंबर 2016 की अधिसूचना में धारा 3 c(v) के तहत बैंक खातों से काउंटर के जरिए 10,000 रुपए प्रतिदिन और 20,000 रुपए प्रति सप्‍ताह की निकासी सीमा तय की गई थी। एटीएम से भी प्रति दिन 2,000 रुपए की निकासी की ऐसी ही सीमा लगाई गई थी। किस कानून और आरबीआई के किस अधिकार के तहत लोगों पर अपनी ही नकदी निकालने की सीमा तय की गई? देश में करंसी नोटों के राशन का अधिकार आरबीआई को कैसे मिला? अगर आप ऐसा कोई नियम नहीं बता सकते हैं तो क्‍यों न आप पर मुकदमा चलाया जाए और पद के अधिकारों का दुरुपयोग करने के लिए पद से हटा दिया जाए?
  8. गुजरे दो महीनों में आरबीआई के नियमों में बार-बार अदला क्‍यों हुई? कृपया हमें उस आरबीआई अधिकारी का नाम बताएं जिसने निकासी के लिए उंगली पर पर स्‍याही लगाने का आईडिया दिया? शादी से जुड़ी निकासी वाली अधिसूचना का मसौदा किसने तैयार किया था? अगर यह सब आरबीआई ने नहीं, सरकार ने किया था तो क्‍या आरबीआई अब वित्‍त मंत्रालय का एक विभाग है?
  9. ठीक-ठीक कितनी राशि की नोटबंदी हुई और पुरानी करंसी में से कितना वापस जमा किया जा चुका है? 8 नवंबर को जब आरबीआई ने सरकार को नोटबंदी की सलाह दी तो कितने नोटों के वापस न लौटने की अपेक्षा थी?
  10. आरबीआई ने आरटीआई के तहत जानकारी देने से मना क्‍यों किया है, वह भी निजी चोट के डर जैसा मूर्खतापूर्ण कारण बताकर? आरबीआई आरटीआई के तहत मांगी जा रही जानकारी क्‍यों नहीं मुहैया करा रहा है?
 
Copyright 2015. All rights reserved.
Back to content | Back to main menu