Sample 3 - ||| Anuvaad Communication, Vaishali, Ghaziabad |||

Search
Go to content

Main menu:

Sample 3

Translation Sample
Text in English
ManpowerGroup Employment Outlook Survey reveals that Indian employers expect Q1 2017 hiring to remain active but project a considerably slower pace compared to last year. Employers in the South report strongest job prospects for the quarter ahead

Hiring intentions remain optimistic for the upcoming quarter and Outlooks remain positive in all sectors and regions

New Delhi – According to the ManpowerGroup Employment Outlook Survey released today by ManpowerGroup, the survey of 4,930 employers across India indicates that hiring activity is expected to continue at a strong pace for the first three months of 2017. However, opportunities for job seekers are expected to be considerably weaker than they were a year ago at this time.  Overall, job prospects remain healthy in the majority of industry sectors surveyed.

AG Rao, Group Managing Director of ManpowerGroup India said, “The job market continues to sustain the momentum gained over the past few months. Undertaking several measures to stabilize, sustain and promote economic growth on continued basis is on the agenda of the government. There are continuous ongoing measures to improve ease of doing business and encourage industries to expand their operations, which in turn will help boost the job market.

At present, the Indian economy is reaping benefits of its Manufacturing and Services sectors. Hiring activity will be led by IT and telecom while other sectors are likely to pick up the pace in the next few months. The growth can be attributed to sectors such as, IT-Software, ITeS and Healthcare. The job market continues to sustain the momentum in the digital age, however the initial slow pace of automation has picked up steam and job-seekers should be willing to upgrade themselves for gainful employment,” added Mr. Rao.

Sectoral Trends

Employers in all seven industry sectors expect to grow staffing levels during 1Q 2017. The strongest labour market is anticipated in the Public Administration & Education sector, where employers report a Net Employment Outlook of +26%. Services sector employers also expect an active hiring pace, reporting an Outlook of +25%, while Outlooks stand at +24% and +23% in the Mining & Construction sector and the Manufacturing sector, respectively. The least optimistic Outlooks of +21% are reported in two sectors – the Finance, Insurance & Real Estate sector and the Transportation & Utilities sector.

Quarter-over-quarter, hiring intentions decline in five of the seven industry sectors. The most noteworthy declines of 13 and 11 percentage points are reported in the Wholesale & Retail Trade sector and the Services sector, respectively, while the Outlook for the Manufacturing sector is 6 percentage points weaker. However, hiring prospects improve by 5 percentage points in both the Mining & Construction sector and the Public Administration & Education sector.

When compared with 1Q 2016, employers report weaker Outlooks in all seven industry sectors. Steep declines of 26 and 25 percentage points are reported in the Transportation & Utilities sector and the Finance, Insurance & Real Estate sector, respectively, while the Outlook for the Wholesale & Retail Trade sector is 23 percentage points weaker. Elsewhere, Outlooks decrease by 19 percentage points in both the Public Administration & Education sector and the Services sector.

India’s Regional Trends
Staffing levels are expected to increase in all four regions during 1Q 2017. Employers in the South report the most optimistic hiring intentions with a Net Employment Outlook of +31%. Elsewhere, an active labour market is forecast in the North, with an Outlook of +27%, and in the West, where the Outlook is +21%. Employers in the East expect a steady hiring pace, reporting an Outlook of +18%.

When compared with 4Q 2016, employers in three of the four regions report weaker hiring plans. The most notable decline of 10 percentage points is reported in the West, while Outlooks are 9 and 5 percentage points weaker in the North and the East, respectively. Meanwhile, the Outlook for the South remains relatively stable.

Year-over-year, hiring intentions decline in all four regions. Employers in the North report a steep decrease of 32 percentage points, while Outlooks are 23 and 18 percentage points weaker in the West and the East, respectively. The Outlook for the South declines by 5 percentage points.

Global Trends
The research from ManpowerGroup indicates job seekers across the globe will likely find some opportunities through the first three months of 2017. Hiring activity is expected to continue in the majority of the world’s labor markets and most outlooks remain relatively stable or improve from three months ago and last year at this time. Altogether, employers in 40 of 43 countries and territories intend to add to their payrolls by varying degrees at the start of 2017, and the survey reveals few signs that uncertainty associated with the Brexit vote or the U.S. election will result in any significant labor market volatility. Instead, employers appear content to keep a watchful eye on marketplace conditions and adjust workforce levels according to their business needs.

Overall, forecasts are mixed in comparison to the Quarter 4 2016 and Quarter 1 2016 surveys. Hiring plans improve in 19 of 43 countries and territories when compared quarter-over-quarter, decline in 17, and are unchanged in seven. Outlooks strengthen in 20 countries and territories year-over-year, weaken in 18, and are unchanged in four. First-quarter hiring confidence is strongest in Taiwan, India, Japan, Hungary and Slovenia. The weakest forecasts are reported in Brazil, Switzerland and Italy.  

Job gains are expected in nine of the 10 countries surveyed in the Americas. Hiring confidence strengthens in four countries, declines in four, and is unchanged in two when compared to the final three months of 2016. Year-over-year, hiring prospects improve in four countries but weaken in the remaining six. The strongest first-quarter hiring plans are reported in both Guatemala and the United States, while employers in Brazil expect payrolls to shrink for the eighth consecutive quarter and report the weakest hiring plans across the region as well as across the globe.

Employers expect staffing levels to increase by varying degrees in 23 of 25 countries in the Europe, Middle East & Africa (EMEA) region. When compared quarter-over-quarter, hiring plans improve in 12 countries, weaken in 10 and are unchanged in three.
Translated Text in Hindi
मैनपावर एमप्लायमेंट आउटलुक सर्वे से पता चलता है कि भारतीय नियोक्ता 2017 की पहली तिमाही में नियुक्ति की रफ्तार बनी रहने की उम्मीद कर रहे हैं, पर गए साल की तुलना में थोड़ा कम। दक्षिण के नियोक्ता आने वाली तिमाही के लिए रोजगार की सबसे मजबूत संभावना बता रहे हैं

आगामी तिमाही के लिए नियुक्ति के इरादे आशावादी बने हुए हैं और सभी क्षेत्रों तथा इलाकों में आउटलुक सकारात्मक है

नई दिल्ली – मैनपावर समूह द्वारा आज जारी मैनपावर एमप्लायमेंट आउटलुक सर्वे के मुताबिक भारतीय नियोक्ता 2017 के शुरू के तीन महीनों में नियुक्ति गतिविधि की तेज रफ्तार जारी रखने की उम्मीद करते हैं। इस सर्वेक्षण में देश भर के 4930 नियोक्ताओं ने हिस्सा लिया। हालांकि, रोजगार तलाशने वालों के लिए मौके एक साल पहले की तुलना में काफी कमजोर होने की उम्मीद है। कुल मिलाकर, सर्वेक्षण में शामिल किए गए ज्यादातर उद्योग क्षेत्रों में रोजगार की संभावना अच्छी है।  

मैनपावर ग्रुप इंडिया के ग्रुप मैनेजिंग डायरेक्टर, एजी राव ने कहा, “रोजगार बाजार उस गति को बनाए हुए है जो पिछले कुछ महीनों के दौरान हासिल हुए हैं। सरकार चाहती है कि निरंतर आधार पर आर्थिक विकास को कायम रखा जाए, उसे स्थिरता और गति दी जाए और इसके लिए कई उपाय करना सरकार के एजंडा में है। नियुक्ति से संबंधित इस आउटलुक से नियोक्ताओं के बीच कुछ बढ़ी हुई सावधानी के संकेत मिलते हैं क्योंकि भारतीय कंपनियां दुनिया भर में चल रही मंदी के प्रभाव का अध्ययन कर रही हैं। ये निरंतर चलने वाले उपाय हैं ताकि कारोबार करने में सहूलियत बढ़े और उद्योग अपने परिचालन का विस्तार करने के लिए प्रेरित हों जो रोजगार बाजार में तेजी लाने में सहायक होगा।

श्री राव ने आगे कहा, “मौजूदा स्थिति में भारतीय अर्थव्यवस्था अपने निर्माण और सेवा क्षेत्र से लाभ हासिल कर रहा है। नियुक्ति गतिविधियां सबसे ज्यादा सूचना तकनालाजी और दूरसंचार क्षेत्र में होंगी। अन्य क्षेत्रों से उम्मीद की जाती है कि अगले कुछ समय में रफ्तार पकड़ लेंगे। विकास का श्रेय आईटी-सॉफ्टवेयर, आईटीईएस और हेल्थकेयर को सौंपा जा सकता है। रोजगार बाजार डिजिटल जमाने में भी तक उसी रफ्तार को बनाए हुए है हालांकि, ऑटोमेशन की धीमी रफ्तार ने गति पकड़ ली है और रोजगार तलाशने वालों को चाहिए कि लाभप्रद रोजगार के लिए खुद को अपग्रेड करें।”

क्षेत्रवार प्रवृत्तियां
नियोक्ताओं को 2017 की पहली तिमाही के दौरान सभी सात उद्योग क्षेत्रों में कर्मचारियों का स्तर बढ़ने की उम्मीद है। सबसे मजबूत श्रम बाजार लोक प्रशासन और शिक्षा क्षेत्र में अपेक्षित है जहां नियोक्ता +26% के नेट एमप्लायमेंट आउटलुट की रिपोर्ट करते हैं। सेवा क्षेत्र के नियोक्ता सक्रिय नियुक्ति रफ्तार की उम्मीद हैं। यहां आउटलुक +25% है जबकि खनन और निर्माण क्षेत्र तथा मैन्युफैक्चरिंग में यह क्रम से +24% और +23% है। सबसे कम आशावादी आउटलुक +21% का, दो क्षेत्रों में रिपोर्ट किया गया है। ये हैं - वित्त, बीमा और भूसंपदा तथा परिवहन और यूटिलिटी क्षेत्र।

तिमाही के मुकाबले तिमाही के हिसाब से सात उद्योग क्षेत्रों में से पांच में नियुक्ति इरादे कम हुए हैं। सबसे उल्लेखनीय कमी 13 और 11 प्रतिशत प्वाइंट की हुई है। यह थोक तथा खुदरा व्यापार और सेवा क्षेत्र में है। इस बीच, मैन्युफैक्चरिंग क्षेत्र के लिए आउटलुक 6 प्रतिशत प्वाइंट कमजोर है। हालांकि खनन और निर्माण तथा लोक प्रशासन और शिक्षा क्षेत्र में नियुक्ति संभावना 5 प्रतिशत प्वाइंट बेहतर हुई है।   

2016 की पहली तिमाही से तुलना करने पर नियोक्ता सभी सात उद्योग क्षेत्रों में कमजोर आउटलुक की रिपोर्ट करते हैं। 26 और 25 प्रतिशत प्वाइंट की सबसे ज्यादा मंदी परिवहन और यूटिलिटीज क्षेत्र तथा वित्त, बीमा और भू संपदा क्षेत्र में रिपोर्ट की गई है जबकि थोक और खुदरा व्यापार क्षेत्र के लिए आउटलुक 23 प्रतिशत प्वाइंट कमजोर है। अन्य क्षेत्रों में आउटलुक 19 प्रतिशत प्वाइंट कम हुआ है और यह लोक प्रशासन तथा शिक्षा और सेवा क्षेत्र है।

भारत की क्षेत्रीय प्रवृत्तियां
देश के सभी चार क्षेत्रों में नियोक्ता 2017 की पहली तिमाही में कर्मचारियों की संख्या बढ़ने की उम्मीद कर रहे हैं। दक्षिण के नियोक्ता सबसे आशावादी नियुक्ति इरादे की रिपोर्ट करते हैं जबकि नेट एमप्लायमेंट आउटलुक +31% का है। इसके अलावा, उत्तर में जहां आउटलुक +27% है, पश्चिम में जहां आउटलुक +21% एक सक्रिय श्रम बाजार की भविष्यवाणी है। पूर्व के नियोक्ता नियुक्ति की तेज रफ्तार की उम्मीद करते हैं जहां  आउटलुक +18%.की रिपोर्ट की गई है।   

2016 की चौथी तिमाही सेतुलना करें तो देश के चार में से तीन क्षेत्रों में नियुक्ति की योजना कमजोर है। 10 प्रतिशत प्वाइंट की सबसे उल्लेखनीय कमी पश्चिम में रिपोर्ट की गई है जबक उत्तर और पूर्व में आउटलुक क्रम से 9 और 5 प्रतिशत प्वाइंट कमजोर हैं। इस बीच, दक्षिण के लिए आउटलुक अपेक्षाकृत स्थिर बना हुआ है।

साल के मुकाबले साल के हिसाब से नियुक्ति इरादे सभी चार क्षेत्रों में कम हुए हैं। उत्तर में नियोक्ता 32 प्रतिशत प्वाइंट की भारी कमी की रिपोर्ट करते हैं जबकि आउटलुक पश्चिम और पूरब में क्रम से 23 और 18 प्रतिशत प्वाइंट कमजोर है। दक्षिण के लिए आउटलुक 5 प्रतिशत प्वाइंट कम हुए हैं।

अंतरराष्ट्रीय प्रवृत्तियां
मैनपावर ग्रुप के अनुसंधान से यह संकेत मिलता है कि दुनिया भर में रोजगार तलाशने वालों को 2017 के शुरू के तीन महीनों में रोजगार चाहने वालों को कुछ मौके मिलेंगे। उम्मीद की जाती है कि दुनिया भर के ज्यादातर बाजारों में नियुक्ति चलती रहेंगी और ज्यादातर आउटलुक अपेक्षाकृत स्थिर बने हुए हैं ताकि पिछले तीन और पिछले साल के इन्हीं दिनों से बेहतर हों। कुल मिलाकर, 40 से 43 देशों और क्षेत्रो में नियोक्ताओं का इरादा वेतनमद में अपना खर्च बढ़ाना है और यह 2017 के शुरू में अलग-अलग डिग्री में होता। सर्वेक्षण से अनिश्चितता के कुछ संकेतों का पता चलता है जिसका संबंध ब्रेक्सिट वोट या अमेरिकी चुनाव से हैं और इस कारण श्रम बाजार में कोई बड़ी चंचलता रहेगी। इसकी बजाय नियोक्ता संतुष्ट लगते हैं और बाजार की स्थितियों पर नजर रखना चाहते हैं ताकि कामगारों के स्तर को कारोबार की जरूरत के अनुसार एडजस्ट किया जा सके।  

कुल मिलाकर, भविष्यवाणियां 2016 की चौथी तिमाही और 2016 की पहली तिमाही के सर्वेक्षणों के मुकाबले मिश्रित हैं। तिमाही के मुकाबले तिमाही की तुलना की जाए तो नियुक्ति योजनाएं 43 में से 19 देशों और क्षेत्रों में बेहतर हुई हैं, 17 में खराब हुई है और सात में यथावत हैं। साल के मुकाबले साल के हिसाब से 20 देशों और क्षेत्रों में आउटलुक मजबूत हुआ है, 18 में कमजोर हुआ है और चार में यथावत है। पहली तिमाही के दौरान नियुक्ति का भरोसा ताईवान, भारत, जापान, हंगरी और स्लोवेनिया में सबसे मजबूत है। सबसे कमजोर भविष्यवाणी ब्राजील, स्विटजरलैंड और इटली में की गई है।   

सर्वेक्षण में शामिल किए गए अमेरिका के 10 में से 9 देशों में रोजगार के मौके बढ़ने की उम्मीद है। 2016 के अंतिम तीन महीनों की तुलना में नियुक्ति के इरादे चार देशों में मजबूत हुए हैं, चार में कमजोर और दो में यथावत हैं। साल के मुकाबले साल के हिसाब से नियुक्ति की संभावना चार देशों में बेहतर हुई है पर बाकी छह में कमजोर हुई है। पहली तिमाही में सबसे मजबूत नियुक्ति योजना की रिपोर्ट अमेरिका के ग्वाटेमाला में मिली है जबकि ब्राजील के नियोक्ता लगातार आठवें महीने वेतन मद में खर्च कम होने की उम्मीद करते हैं और पूरे क्षेत्र के साथ-साथ दुनिया भर में सबसे कमजोर नियुक्ति योजना की रिपोर्ट करते हैं।   

नियोक्ता उम्मीद करते हैं कि स्टाफिंग का स्तर भिन्न डिग्री में बेहतर होगा और ऐसा यूरोप, मध्यपूर्व तथा अफ्रीका (ईएमईए) क्षेत्र के 23 से 25 देशों में होने की उम्मीद है। तिमाही के मुकाबले तिमाही की तुलना की जाए तो नियुक्ति योजना 12 देशों में बेहतर हुई है, 10 में कमजोर और तीन में यथावत है।
 
Copyright 2015. All rights reserved.
Back to content | Back to main menu